477 साल से बिना माचिस के मंदिर में भट्टी जल रही है और इसे प्रसाद बनाने के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है।

477 साल से बिना माचिस के मंदिर में भट्टी जल रही है और इसे प्रसाद बनाने के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है।

हमारे देश में कई प्राचीन धार्मिक स्थल हैं। हर किसी की अपनी विशेषताएं और कहानियां होती हैं जिनके बारे में जानकर लोग हैरान रह जाते हैं। आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के अजीबोगरीब रहस्य के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे देखे बिना सच में यकीन करना संभव नहीं है। हम बात कर रहे हैं वृंदावन के श्री राधारमण मंदिर की जहां पिछले 477 साल से लगातार एक भट्टी जल रही है।

यह भट्टी बरसों से जल रही है। इसका उपयोग ठाकुरजी का खाना पकाने के लिए किया जाता है। इस भट्ठे का उपयोग श्री राधारमण मंदिर में दीपक जलाने और प्रसाद तैयार करने के लिए भी किया जाता है। भट्टी और रसोई का वर्णन करते हुए सेवायत श्रीवास्तव गोस्वामी कहते हैं कि भट्टी में हमेशा आग लगी रहती है।

रोजाना इस्तेमाल होने वाली 10 फुट की इस भट्टी को रात के समय ढक दिया जाता है। इसमें पहले लकड़ी डाली जाती है और फिर उसके ऊपर राख को फूंक दिया जाता है ताकि इसकी लौ ठंडी न हो। अगली सुबह लकड़ी को वापस उसमें डाल दिया जाता है और जला दिया जाता है।

मंदिर के एक अन्य पुजारी आशीष गोस्वामी ने कहा कि कोई भी बाहरी व्यक्ति रसोई में प्रवेश नहीं कर सकता है। मंदिर में सेवा करने वाले ही प्रवेश कर सकते हैं और वह भी धोती पहनकर। एक बार अंदर जाने के बाद, जब तक आप पूर्ण प्रसाद नहीं बन जाते, तब तक कोई बाहर नहीं आ सकता। किसी कारणवश बाहर जाना पड़े तो भी अंदर जाने के लिए फिर से नहाना पड़ता है।

इस भट्टी का एक दिलचस्प इतिहास जिसके अनुसार चैतन्य महाप्रभु वर्ष 1917 में वृंदावन आए थे। उस समय उन्होंने 6 गोस्वामी को तीर्थयात्रा के विकास की जिम्मेदारी सौंपी थी। इनमें से एक थे दक्षिण भारत के त्रिकलापल्ली में श्रीरंगम मंदिर के मुख्य पुजारी के पुत्र गोपाल भट गोस्वामी।

चैतन्य महाप्रभु के आदेश का पालन करते हुए गोपाल भट्ट प्रतिदिन ज्योतिर्लिंग की पूजा करते थे। दामोदर कुंड की यात्रा के दौरान वे इन बारहवें ज्योतिर्लिंगों को वृंदावन ले आए। वर्ष 190 में, गोपाल भट्टन चैतन्य महाप्रभु के उत्तराधिकारी बने। 14वें चैतन्य महाप्रभु का हरा पूरा हुआ।

बात 18 ईस्वी सन् की है। नरसिंह चतुर्दशी के दिन गोपाल भट्ट की नजर सालिग्राम शीला के पास एक सांप पर पड़ी। जब उन्होंने उन्हें हटाने की कोशिश की तो वे शीला राधारमण के रूप में प्रकट हुए।

Religion