किडनी स्टोन के इन 7 लक्षणों को जानकर इन 6 घरेलू उपायों से करें दर्द कम

किडनी स्टोन के इन 7 लक्षणों को जानकर इन 6 घरेलू उपायों से करें दर्द कम

शरीर में किडनी बहुत ही महत्वपूर्ण अंग होता है, जिसके कई बेहद आवश्यक कार्य होते हैं। यह शरीर से वेस्ट पदार्थ बाहर निकालती है। यूरिन का निर्माण करती है। किडनी को स्वस्थ रखने के लिए हेल्दी डाइट और पानी पर्याप्त मात्रा में पीने की जरूरत होती है। यदि किडनी में कोई समस्या होती है, तो दूसरे अंग भी प्रभावित हो सकते हैं। किडनी इंफेक्शन, किडनी कैंसर, किडनी फेलियर के अलावा, आज लोग किडनी में स्टोन (Kidney Stone) से सबसे ज्यादा परेशान हैं। जब शरीर में अधिक मात्रा में कैल्शियम बन जाता है, सोडियम, दूसरे मिनरल्स एकसाथ संपर्क में आते हैं, तो गुर्दे में पथरी का निर्माण होने लगता है। गुर्दे में पथरी (Kidney Stone) की समस्या से देश में अधिकतर लोग ग्रस्त हैं। कई बार ये स्टोन इतना छोटा होता है कि जल्दी पता नहीं चलता है। पथरी होने पर दर्द भी असहनीय हो जाता है। आप कुछ लक्षणों से पहचान सकते हैं कि आपको किडनी में स्टोन है। यदि नीचे बताए गए लक्षण आपमें नजर आते हैं, तो बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करें। उनकी दवाओं का सेवन करें और दर्द से राहत पाने के लिए इन घरेलू नुस्खों को भी ट्राई कर सकते हैं।

किडनी स्टोन के लक्षण: गुर्दे में पथरी होने से पेट और कमर में तेज दर्द हो सकता है। बार-बार उल्टी, जी मिचलाने की समस्या होगी। पेशाब करते समय खून आ सकता है। यूरिन इंफेक्श, यूरिन में जलन हो सकता है। आपको बुखार रह सकता है। अचानक पसीना होने लगेगा। भूख ना लगना।

किडनी स्टोन के दर्द से राहत पाने के उपाय: यदि आपको गुर्दे में पथरी है, तो इसका दर्द कभी भी उठ सकता है। इस दर्द को कम करने के लिए आपको खुद को हाइड्रेट रखना होगा। किडनी में स्टोन ना हो इसके लिए भी जरूरी है कि आप लिक्विड खूब लें। सोडियम की मात्रा डाइट में अधिक शामिल ना करें। खाने में ऊपर से नमक ना मिलाएं। जिन फलों और सब्जियों में अधिक बीज होते हैं, उनके सेवन से बचें। आप केला, गाजर, करेला आदि खाएं। ये पथरी का निर्माण नहीं होने देते हैं। एक्सपर्ट से किडनी स्टोन होने पर सही डाइट की सलाह भी ले सकते हैं, जो दर्द को ट्रिगर करने से बचाते हैं।

तुलसी का सेवन करने से भी गुर्दे में पथरी होने के कारण दर्द को कम किया जा सकता है। तुलसी सेहत के लिए बहुत हेल्दी मानी गई है। यदि तुलसी की पत्तियों को सेवन नियमित करें, तो यह कई शारीरिक समस्याओं को दूर रख सकती है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होता है, जो यूरिक एसिड के स्तर को अधिक मात्रा में शरीर में बढ़ने नहीं देता है। जब भी आपको दर्द महसूस हो, तो तुलसी की कुछ पत्तियों को चबाकर खाएं। आप इसका काढ़ा भी बनाकर पी सकते हैं। तुलसी में विटामिन बी मौजूद होता है, इससे पथरी की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

पत्थरचट्टा एक पौधा है। खाने में यह नमकीन और खट्टा लगता है। इसके पत्तों का सेवन कर सकते हैं। इसे खाली पेट गुनगुने पानी के साथ चबाकर खाने से किडनी स्टोन गलकर शरीर से बाहर निकल सकता है। दर्द होने पर भी आराम मिलता है। हालांकि, पत्थरचट्टा का सेवन कितनी मात्रा और किस तरह से करना चाहिए, इसके बारे में आयर्वेदिक विशेषज्ञ से जरूर सलाह ले लें।

खाएं प्याज, आंवला, अंगूर: प्याज का सेवन करना चाहिए। प्याज कच्चा खाएं, इसका जूस 1-2 चम्मच पिएं। प्याज को पानी में पकाकर और उसे मिक्सी में पीसकर उसका रस निकाल लें। इस रस को भी थोड़ा-थोड़ा पिएं। अंगूर में पोटैशियम, पानी अधिक होता है, सोडियम क्लोराइड काफी कम होता है। यह गुर्दे की पथरी में होने वाले दर्द को दूर कर सकता है।आंवला खाने से भी किडनी में स्टोन नहीं बनता है।

घरेलू नुस्खे