हमेशा विवादों में रहने वाली कंगना नए साल में फिर आई मुसीबत, ये है मामला

हमेशा विवादों में रहने वाली कंगना नए साल में फिर आई मुसीबत, ये है मामला

माना जाता है कि नया साल का पहला दिन आपके लिए खुशी भरा होना चाहिए जैसा आपका पहला दिन बीतेगा वैसा ही आपके पूरे साल के बीतने की संभावना होती है। लेकिन साल 2022 कँगना रनौत के लिए बड़ी मुसीबत लेकर आया है। नए साल वाले दिन ही उन्हें इस बुरी खबर का सामना करना पड़ा इस वजह से उनका अधिकतर समय कोर्ट-कचहरी के मामलों में ही गुजर गया। अब कँगना रनौत पर एक नया आरोप लगाया गया है। यानि एक के बाद एक अलग अलग राज्यों में कंगना रनौत पर आरोप लगाए जा रहे हैं तथा शिकायत भी दर्ज की जा रही है।

क्या है नया आरोप? मुंबई में कंगना के खिलाफ एक नया मामला दर्ज किया गया है यह मामला कांग्रेस जनरल सेक्रेट्री भरत सिंह ने दर्ज करवाया है। भरत सिंह ने शिकायत में कहा कि कंगना के नए बयान से महान स्वतंत्रता सेनानियों, नायकों और पूर्व नेताओं की गरिमा और सम्मान को काफी ठेस पहुंचा है। वैसे भी कंगना के खिलाफ पूरे देश में अलग-अलग जगह से कोई केस दर्ज किए जा चुके हैं। अब मुंबई में यह नया मामला सामने आया है जिसकी वजह से कंगना की मुसीबत और बढ़ गई है।

दरअसल बात यह है, कि कुछ समय पहले एक न्यूज़ चैनल पर इंटरव्यू लेते हुए कहा था कि 1947 में हमें जो आजादी मिली थी वह भीख में मिली थी जबकि असली आजादी भारत को वर्ष 2014 में उस समय मिली जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने। उनके इस बयान के देने के बाद सोशल मीडिया पर कंगना रनौत की काफी आलोचना भी की गई थी।

उनके इसी बयान पर शिकायत करते हुए यह आरोप लगाया गया है, कि उनके इस बयान से स्वतंत्रता सेनानियों और नेताओं और नायकों के मान सम्मान को ठेस पहुंचा है जो कि कानूनी रूप से गलत है।

पिछले 1 वर्ष से कंगना रनौत पर लगभग 8 केस दर्ज किए गए हैं दरअसल वर्तमान समय में कंगना अपने नए नए बयानों और अजीबो गरीब ट्वीट के वजह से लोगों की चर्चा का विषय बन गई है और अधिकतर लोग उनकी इन्हीं बातों और विचारों की आलोचना भी करते हैं। इसलिए आजकल कंगना राणावत अपना अधिकतर समय शूटिंग में न बिता कर कोर्ट कचहरी के चक्कर लगाने में बिता रही हैं। अब इस आरोप ने उनकी मुसीबत को और अधिक बढ़ा दिया है देखना यह है कि कंगना रनौत अपने आरोपों को कैसे गलत साबित करती हैं।

मनोरंजन